आराधना का ब्लॉग

'अहमस्मि'- अपनी खोज में

Archive for the month “नवम्बर, 2010”

कोई हमको भी तो देखे, कोई हमसे भी तो पूछे

कुछ दिनों से लिख नहीं पा रही हूँ हालांकि शेयर करने के लिए बहुत कुछ है. कई सपनें, कुछ सवाल, कुछ समस्याएँ, कुछ समाधान. जाने कैसा दिमाग है कि किसी विशेष आयोजन के समय या विशेष दिवस को नज़र उन पर जाती है, जो फ्रेम से  बाहर हैं. आज बालदिवस है तो सोचा कि कुछ ऐसा देखा-दिखाया जाए…

 

बाल दिवस पर उन्हें हमारी शुभकामनाएँ !

(नोट : सारे चित्र मेरी सहेली चैंडी के कैमरे से… दहशत वाला छाया चित्र उस दलित परिवार के बच्चे का है, जिसके घर को सवर्णों द्वारा जला दिया गया था और उसके बाद वह बच्चा थोड़ी सी भी हलचल से डर जाता है.)

Post Navigation