आराधना का ब्लॉग

'अहमस्मि'- अपनी खोज में

बीमारी और जानकारी

पिछले पांच-छः महीने मैं गले में भयंकर दर्द से पीड़ित रही. वैसे मुझे धूल और प्रदूषण से एलर्जी है और सर्द-गर्म से भी. इससे अक्सर गले में खरास और छाले हो जाते हैं. अगस्त में मैंने एक कॉलेज में adhok असिस्टेंट प्रोफेसर के रूप में पढ़ाना शुरू किया था, उसी बीच घर की सफाई करते-करते धूल से गले में छाले हो गए, जिससे दर्द हुआ और बढ़ता ही गया. खरास और छाले तो अक्सर हो जाते हैं, लेकिन दर्द से लगा कि इन्फेक्शन है. लेकिन एंटीबायोटिक खाने से भी लाभ नहीं हुआ.

तब लगा कि डॉक्टर को दिखाना ही पड़ेगा. एक अनुभवी ENT विशेषज्ञ को दिखाया. उन्होंने सारे लक्षण सुनकर कहा कि एलर्जी ही है, कुछ एंटी एलर्जिक दवाएं लिखीं और मुझे खुले और साफ वातावरण में रहने की हिदायत भी दी. पूरे एक हफ्ते उनकी लिखीं दवाएं खाने से फायदा नहीं हुआ, तो मैं घबरा गयी. मैंने अपनी डॉक्टर सहेली को सब बताया, तो उसने एम्स में दिखाने को कहा.

मुझे ऐसा लगता था जैसे गले में घाव है. कुछ भी खाने-पीने में, यहाँ तक कि सांस लेने में भी दर्द हो रहा था. मुझे गले की परेशानी अक्सर हो जाती है, लेकिन इतना कष्ट पहली बार हुआ. लग रहा था कि गाना-गुनगुनाना तो दूर, मैं अब ठीक से बोल भी नहीं पाऊँगी कभी. थोड़ी देर बात करने पर भी दर्द बढ़ जाता था और उस पर लेक्चर भी देने पड़ रहे थे.

जब एम्स में डॉक्टर को दिखाया, तो उन्होंने बताया कि गले में अल्सर हैं. डॉक्टर ने बताया कि इसका कारण एलर्जी भी हो सकती है और Acid Reflux भी. एलर्जी का तो पता था मुझे लेकिन एसिड रिफ्लक्स का मतलब समझ में नहीं आया. इंटरनेट खंगाला तो पता चला कि यह एक ऐसी स्थिति होती है जब पेट में भोजन को पचाने वाला एसिड किसी कारण से गले तक वापस चला आता है और गले में घाव पैदा कर देता है.

यह सब जानकर मेरा दिमाग घूम गया था. कैसी-कैसी समस्याएं पैदा होती रहती हैं शरीर में और उनके बारे में हम जान तभी पाते हैं, जब हम किसी बीमारी से ग्रस्त होते हैं. अगर मुझे एसिड रिफ्लक्स के बारे में पहले से ही पता होता तो मैं पहले ही एसिडिटी दूर करने वाली दवा खाने लगती. लेकिन हमारी जानकारी की एक सीमा होती है. हम हर चीज़ के बारे में पूरी जानकारी तो नहीं रख सकते ना. 

डॉक्टर ने मुझे एंटी-एसिड और एंटी-एलर्जिक दवाएं दीं, जिन्हें डेढ़ महीने तक खाने के बाद मेरा गला ठीक हुआ. अभी भी पूरी तरह से आराम नहीं है और दवा खानी पड़ जाती है. इस लम्बी बीमारी से एक नयी बीमारी के बारे में पता चला.

Advertisements

Single Post Navigation

10 thoughts on “बीमारी और जानकारी

  1. आपकी पोस्ट मेरे काम आई।

  2. पूर्ण स्वास्थ्य लाभ करें, अमल इतना विक्षेपित क्यों हुआ, क्या डॉक्टर ने बताया?

  3. I am a medic therefore some medical advice.First I am glad that you are getting the right treatment and are getting better. Do not quit taking your medication even after you are better, Main hindi main likhne ki soch raha tha per translate nahin ho paya. Agar aap chahen to mujhe email bhaij sakti hain. waise main Canada mein rahata hoon. main blog padhata rahat hoon par mear khud ka koi blog nahin hai. Someshwar Sharma

    • दुर्गाशंकर जोशी on said:

      कृपाइया मुझे उचित सलाह बताये मुझे भी बिल्कुल इसी प्रकार की बीमारी हे ,,मुझे भी लगता हे जेसे गले में कोई घाव हे,और गले में कुछ अटक रहा हे,गले में खुजली भी रहती हे और कफ भी हे।धन्यवाद,,,,

      • आपको डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए. हो सकता है मेरी वाली समस्या आपको भी है, लेकिन कोई दूसरी समस्या भी हो सकती है. डॉक्टर जांच करके बता देंगे कि क्या परेशानी है और आपको कौन सी दवा लेनी चाहिए.

  4. to sooth throat take honey on regular basis .

  5. आराम करें और अपना ध्यान रक्खें … बहुत बहुत शुभकमनाएं ….

  6. और गप्पेँ मारनेँ से भी दूर रहेँ।

  7. god bless you…
    sab thik hog

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: